New Delhi: लॉकडाउन के दौरान कई लोगों को खुद के लिए जीने का मौका मिला. इस दौरान ऐसे कई लोग हैं जिन्होंने कुछ अनोखा कर दिखाया, जिनकी चर्चाएं आज हम सभी कर रहे हैं. उन्होंने लॉकडाउन के एक-एक पल को बेकार नहीं जाने दिया बल्कि ऐसा काम किया कि आज लाखों लोग उनकी तरह काम करना चाहेंगे. आज हम आपको 79 साल की एक बुजुर्ग महिला के बारे में बता रहे हैं जिन्होंने लॉकडाउन में घर से ही मसाला चाय का बिजनेस शुरू किया, और कामयाब हो गई.

कोकिला पारेख एक 79 वर्षीय महिला हैं, जो अपने बेटे तुषार पारेख और बहू प्रीति पारेख के साथ सांताक्रूज वेस्ट, मुंबई में रहती हैं… वह अपने परिवार और दोस्तों के बीच बहुत सक्रिय होने, स्वादिष्ट गुजराती भोजन पकाने, और एक स्वादिष्ट गुप्त मसाला पाउडर बनाने के लिए प्रसिद्ध है जिसे आप चाय और दूध में भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

मसाला पाउडर उन्होंने अपने पुर्वज से सीखा. अब वह अपने परिवार के लिए वर्षों से चाय और दूध के लिए मसाला घर पर ही बना रही हैं. जब कोई मेहमान आते हैं तो उन्हें इन्हीं के हाथ का बना सामाला चाय पिलाया जाता है. जिसे पीकर लोगों ने खूब तारीफ की.

जब मेहमान चले जाते तो मैं उन्हें साथ ले जाने के लिए पाउडर पैक कर देता.. एक बार जब यह खत्म हो गया, तो वे मुझे उनके लिए कुछ और बनाने के लिए कहे. मसाला पाउडर न केवल चाय के स्वाद को बढ़ाता है, बल्कि मजबूती भी प्रदान करता है और पाचन में सुधार करता है.

जब मेहमान चले जाते तो मैं उन्हें साथ ले जाने के लिए पाउडर पैक कर देता.. एक बार जब यह खत्म हो गया, तो वे मुझे उनके लिए कुछ और बनाने के लिए कहे. मसाला पाउडर न केवल चाय के स्वाद को बढ़ाता है, बल्कि मजबूती भी प्रदान करता है और पाचन में सुधार करता है.

पारेख कहती हैं, ये सिक्रेट मसाला चाय पूरे परिवार में रिश्तेदारों में फैल चुका है. और हर कोई मुझे इसे बनाने के लिए हर रोज कहता है. कुछ महीने पहले ही उन्होंने चाय मसाला बनाने का फैसला लिया. लॉकडाउन के दौरान वह घर पर ही रही, इसका उन्होंने फायदा उठाया और घर से ही बिजनेस करने के बारे में फैसला लिया.

चूंकि वह पहले से ही मसाला पाउडर के लिए गुप्त नुस्खा में महारत हासिल कर चुकी थी, इसलिए अगला कदम अपने ब्रांड के लिए एक नाम का चयन करना था..वह ‘कोकिला और तुषार की चाय मसाला’ के लिए KT नाम चुना.

पारेख की बहू प्रीति कहती हैं, “शुरू में माँ हमारी रसोई में एक नियमित मिक्सर ग्राइंडर का उपयोग करके मसाला बनाती थीं, लेकिन जब उन्होंने इसे थोक में बनाने का फैसला किया तो हमने एक वाणिज्यिक मिश्रण इकाई खरीदी जो इसकी मात्रा को बढ़ाती है… इसके बाद मसाला को एयरटाइट पैकेट में पैक किया जाता है, जो जिपलॉक सीलर के साथ आता है..

यह उत्पाद के शेल्फ-जीवन को बनाए रखने में मदद करता है और अगर कोई यात्रा करते समय पाउडर को अपने साथ ले जाना चाहता है तो इसे आसानी से किया जा सकता है.. इस तरह हमने बिजनेस की शुरूआत की.

मसाला विभिन्न सामग्रियों जैसे नींबू पाउडर, सूखे अदरक पाउडर, इलायची और काली मिर्च का उपयोग विभिन्न अनुपातों में किया जाता है.. यदि एयरटाइट कंटेनर में संग्रहित किया गया हो, तो 6-8 महीने का शैल्फ-जीवन होता है. मसाला 50 ग्राम 25 रुपए में, 100 ग्राम 250 रुपए में और 250 ग्राम में 625 में. उत्पाद देश भर में भेज दिया जाता है और 100 ग्राम से नीचे के ऑर्डर के लिए वितरण शुल्क भी लगाया जाता है.

About Author

Lalit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *