New Delhi: कोरोना वायरस ने पूरे देश में तबाही मचा रखी है। इस बीच सरकार ने कई राज्यों में लॉकडाउन लगा रखा है। बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए देशभर में स्कूल कॉलेज बंद हैं। हालांकि, इस बीच छत्तीसगढ़ राज्य के लिए एक खुशखबरी है। दावा किया जा रहा है कि छत्तीसगढ़ देश का एक ऐसा राज्य बनकर उभरा है जहां पहली बार अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया की तर्ज पर वर्चुअल स्कूल खुलेंगे। छत्तीसगढ़ वर्चुअल स्कूल की स्थापना की जा रही है। कहा जा रहा है कि यह देश का पहला वर्चुअल स्कूल होगा।

छत्तीसगढ़ वर्चुअल स्कूल के पोर्टल का निर्माण एनआइसी द्वारा किया जा रहा है जो virtualschool.cg.nic.in में उपलब्ध होगा। खास बात ये है कि इस पोर्टल के जरिए स्टूडेंट अपना पसंदीदा पाठ्यक्रम चुन सकते हैं। इसमें बच्चों को हर विषय का स्टडी मटेरियल, लर्निंग वीडियो, असाइनमेंट, क्विज सबकुछ आसानी से उपलब्ध हो जाएगा। वर्चुअल स्कूल के जरिए बच्चे कभी भी किसी भी जगह इंटरनेट के जरिए पढ़ाई कर सकेंगे। उनकी पढ़ाई में कोई भी बाधा नहीं आएगी।

वर्चुअल स्कूल का पाठ्यक्रम, छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल के पाठ्यक्रम में लगभग 30 प्रतिशत कटौती कर तैयार किया गया है। वर्चुअल स्कूल के अंतर्गत प्रत्येक विषय के पाठ्यकम को 10 इकाई में विभाजित किया जाएगा। इस पोर्टल की एक और खास बात ये है कि अगर स्टूडेंट को किसी भी चुने हुए विषय को लेकर परेशानी हो रही है तो स्टूडेंट इस पोर्टल में प्रश्न पूछने व वार्तालाप करने की भी सुविधा होगी।

प्रत्येक इकाई से संबंधित पाठ्य सामग्री पीडीएफ फाइल के रूप में वेबसाइट पर अपलोड की जाएगी और आवश्यकतानुसार प्रत्येक इकाई के लिए वीडियो लेक्चर तैयार करवाकर वेबसाइट पर अपलोड किए जाएंगे। जब छात्र प्रथम इकाई के असाइनमेंट में उत्तीर्ण हो जाएगा तो वह द्वितीय इकाई की पाठ्य सामग्री, वीडियो लेक्चर एवं असाइनमेंट को देख सकेगा इसी प्रकार सभी असाइनमेंट को उत्तीर्ण करने के बाद ही वह मुख्य परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए पात्र होगा। वर्चुअल स्कूल के अंतर्गत कक्षा 9वीं में प्रवेश के लिए कक्षा 8वीं उत्तीर्ण या कक्षा 9वीं अनुत्तीर्ण होना चाहिए।

कक्षा 10वीं में प्रवेश के लिए कक्षा 9वीं उत्तीर्ण या कक्षा 10वीं अनुत्तीर्ण होना चाहिए इसी प्रकार कक्षा 11वीं में प्रवेश के लिए कक्षा 10वीं उत्तीर्ण या कक्षा 11वीं अनुत्तीर्ण एवं कक्षा 12वीं में प्रवेश के लिए कक्षा 11वीं उत्तीर्ण या कक्षा 12वीं अनुत्तीर्ण होना चाहिए।

About Author

Naina Shrivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *