New Delhi: भारत के राष्ट्रपति, भारत गणराज्य के कार्यपालक अध्यक्ष होते हैं..वह भारतीय सशस्त्र सेनाओं का सर्वोच्च सेनानायक भी हैं. वह देश के प्रथम नागरिक होते हैं. भारतीय राष्ट्रपति का भारतीय नागरिक होना आवश्यक है.

भारत के राष्ट्रपति नई दिल्ली स्थित राष्ट्रपति भवन में रहते हैं, जिसे रायसीना हिल के नाम से भी जाना जाता है..वर्तमान में राम नाथ कोविन्द भारत के चौदहवें राष्ट्रपति हैं. तो चलिए हम आपको बताते हैं भारत के राष्ट्रपति की असल शक्ति के बारे में.

1- राष्ट्रपति हर उस अपील के विरुद्ध सुनवाई कर सकते हैं- अंतिम अपील.

2- संसद के अधिवेशन की अनुपस्थिति में राष्ट्रपति समयानुकूल अध्यादेश जारी कर सकते हैं.

3- देश के हालत को देखते हुए राष्ट्रपति महोदय जब चाहे लोकसभा को भंग सक सकते हैं.

4- हर 6 महीने के पश्चात व अपनी इच्छा से लोकसभा का अधिवेशन बुलावा सकते हैं.

5- कोई भी बिल राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बिना विधान का रूप नहीं ले सकता है.

6- युद्ध, आतंरिक विद्रोह, आर्थिक हलचल, संवैधानिक असफलता जैसे अवसरों पर राष्ट्रपति महोदय जब चाहें आपात स्थिति की घोषणा कर सकते हैं.

About Author

Naina Shrivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *