New Delhi: एक साल से ज्यादा वक्त तक नजरबंद में रहने के बाद महबूबा मुफ्ती की रिहाई तो हो गई, लेकिन धारा 370 को वापस लाने की उनकी मांग वही है. रिहा होने के बाद से ही वह जम्मू कश्मीर का अधिकार वापस मांग रही है. इस मांग को लेकर उन्होंने तिरंगे को लेकर जो बयान दिया, उस बयान पर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बा नकवी ने पलटवार किया है.

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के बयान ने देशभर में ह’लच’ल मचा दी है. रिहा’ई के बाद से ही महबूबा मुफ्ती जम्मू कश्मीर का हक वापस चाहती हैं. महबूबा मुफ्ती का कहना है कि- जब तक हमें हमारा जम्मू-कश्मीर का झंडा वापस नहीं मिल जाता, हम तिरंगा झंडा नहीं उठाएंगे..

तिरंगे के इस बयान से लोगों में गुस्सा है. नकवी ने कहा कि- तिरंगा जो भारत की शान है, हिंदुस्तान की पहचान है जिन लोगों को इससे परहेज़ है और जो चाहते हैं कि हम इस शान को और पहचान को नहीं स्वीकार करेंगे, तो देश भी ऐसे लोगों को स्वीकार नहीं करेगा.

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती द्वारा राष्ट्र ध्वज के खिलाफ दिए गए बयान पर दिल्ली पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है और दिल्ली पुलिस कमिश्नर से उनके खिला’फ केस दर्ज करने की मांग की गई है.

महबूबा मुफ्ती ने श्रीनगर में प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक देश में दो झंडे वाला बयान दिया है. महबूबा का कहना है कि वह अनुच्छेद 370 को वापस लेकर ही रहेंगी और ऐसा जबतक नहीं हो जाता है वो कोई चुनाव नहीं लड़ेंगी. इसके अलावा महबूबे ने भारत के राष्ट्रध्वज तिरंगे को लेकर भी अपमानजनक टिप्पणी की. महबूबा ने कहा “जिस वक्त हमारा ये झंडा वापस आएगा, हम उस (तिरंगा) झंडे को भी उठा लेंगे.

About Author

Naina Shrivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *