New Delhi: आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद महबूबा मुफ्ती को नजरबंद कर लिया गया था. अब 14 महीनों के बाद उनकी रिहाई की गई है. आर्टिकल 370 को एक साल पूरा होने के बाद जब महबूबा मुफ्ती रिहा हुईं तो उन्होंने फिर से जं’ग छेड़ दिया. मुफ्ती का कहना है कि- अलोकतांत्रिक तरीके से उनसे जो कुछ भी छीना गया है, वो उन्हें वापस चाहिए.

रिहा होने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, दिल्ली दरबार ने 5 अगस्त को अवैध और अलोकतांत्रिक तरीके से हमसे क्या लिया था, हमें वो वापस चाहिए. महबूबा मुफ्ती को पिछले साल 4 अगस्त को उस समय नजरबंद कर दिया गया था, जब केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर राज्य को दो भागों में बांटने के साथ ही उसका विशेष दर्जा छीन लिया था.

अपनी रिहाई के बाद मुफ्ती ने एक ऑडियो भी शेयर किया है. जिसमें वह कहती हुई सुनाई दे रही है- ‘मैं आज एक साल से भी ज्यादा अरसे के बाद रिहा हुई हूं. इस दौरान 5 अगस्त, 2019 के काले दिन का काला फैसला, हर पल मेरे दिल और रू’ह पर वा’र करता रहा और मुझे अहसास है कि यही कैफियत जम्मू-कश्मीर के तमाम लोगों की रही होगी. हममें से कोई भी शख्स उस दिन की डा’काजनी और बेइज्जती को कतई भूल नहीं सकता.’

आज जबकि मुझे रिहा किया गया है, मैं चाहती हूं कि जम्मू-कश्मीर के जितने भी लोग जेलों में बंद पड़े हैं, उन्हें जल्द से जल्द रिहा किया जाए.’ बता दें कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने को लेकर मुफ्ती समेत कई नेताओं को पब्लिक सेफ्टी एक्ट (PSA) के तहत नजरबंद किया गया था.

About Author

Lalit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *