New Delhi: कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए सिंधिया पर बीजेपी का रंग इस कदर छाया कि अब उन्होंने बीजेपी में ही रहने की ठान ली. सिंधिया ने कहा कि- मैंने सोच विचार कर कांग्रेस छोड़ने का फैसला किया था. यह बहुत कठिन निर्णय था, लेकिन जब-जब जनता के मुद्दों की अनदेखी होगी मैं सड़क पर उतरता रहूंगा..

भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि- जिंदगी में मेरा लक्ष्य राजनीति नहीं जनसेवा है.. भाजपा मेरे लिए कोई नई पार्टी नहीं है, क्योंकि इस पार्टी को खड़ा करने के लिए मेरे परिवार का अहम योगदान है.

भारतीय जनता पार्टी देश की जनता और प्रदेश की जनता के हित में कार्य करती है.. हम कोरोना के साथ आमना-सामना कर रहे थे उसके बावजूद हमने गरीबों से लेकर किसान तक हर वर्ग का ख्याल रखा.. प्रधानमंत्री आवास योजना से लेकर तमाम योजनाएं देखिए.. 15 महीनों में कांग्रेस की सरकार को गरीबों की चिंता नहीं थी, कोरोना की चिंता नहीं थी, बाढ़ पीड़ितों की चिंता नहीं, लेकिन आइफा अवार्ड की चिंता थी..

मैंने भाजपा में जाने का निर्णय अंतरआत्मा की आवाज पर लिया है.. मैं उन लोगों में से नहीं हूं जो किसी अवसर के लिए एक पद की लालसा में एक दल से दूसरे दल में आते जाते रहते हैं.. मैं पूरी ईमानदारी से कहना चाहता हूं कि अंतिम सांस तक अब भाजपा में ही रहूंगा..

About Author

Naina Shrivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *