New Delhi: सोशल मीडिया पर हिंगलाज मंदिर का एक वीडियो वायरल हो रहा है. ये वीडियो माता का मंदिर हिंगलाज 51 शक्तिपीठ में से एक है. भारत की तरह पाकिस्तान के इस मंदिर में भी नवरात्रि की पूजा की जा रही है. लोग मां के दर्शन के लिए जुटे हैं.

25 अक्टूबर 2020 को नवरात्रि के पर्व का समापन होगा इस दिन नवमी की तिथि है. 26 अक्टूबर 2020 को दशमी की तिथि है. इस दिन दशहरा का पर्व मनाया जाएगा. इस मंदिर में शारदीय नवरात्रि का पर्व बहुत ही भक्ति भाव से मनाया जाता है. माता के दर्शन के लिए

पौराणिक मान्यता है कि भगवान राम रावध का वध करने के बाद हिंगलाज माता के दर्शन के लिए आए थे. नवरात्रि के पर्व पर हिंगलाज माता के दरबार में बड़ी संख्या में हिंदू, सिंधी और मुस्लमान श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं. यहां माता एक गुफा में विराजमान हैं. जो एक शिला के रुप में हैं.

ऐसे पड़ा हिंगलाज मंदिर का नाम

इसका नाम हिंगलाज कैसे पड़ा, इसके पीछे एक दिलचस्प कहानी है. मान्यता है कि यहां पर हिंगोल नाम का एक कबिला राज करता था, इसका राजा हंगोल था. हंगोल बहादुर राजा था. लेकिन उसके दरबारी उसे पसंद नहीं करते थे. राजा के वजीर ने राजा को लत लगा दी और भी कई तरह के व्यसन उसे लगा दिए. जिससे कबिले के लोग परेशान हो गए तब उन्होंने देवी से राजा को सुधारने की प्रर्थना की. माता ने उनकी प्रार्थना को सुन लिया और इस तरह से कबिले की लाज रह गई. तभी से हिंगलाज माता कहलाने लगीं.

About Author

Naina Shrivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *