New Delhi: क्या आप भी अपने घर की बालकनी पर फल, सब्जियां, पौधे उगाना चाहते हैं? तो आज हम आपको एक ऐसा टिप्स बता रहे हैं जिसे अपनाकर आप आसानी से अपने घर की बालकनी या छत पर ही नींबू उगा सकते हैं. बागवानी विशेषज्ञ इस टिप्स के जरिए घर की बालकनी में ही 250 तरह की सब्जियां भी उगा लेते हैं. चलिए बताते हैं कैसे?

द बेटर इंडिया की खबर के मुताबिक, कानपुर के आकाश जायसवाल अपने टैरेस गार्डन में 250 तरह की सब्जियां, पौधे, फल उगाते हैं.. उन्होंने आज नींबू उगाने का तरीका बताया है. अगर आप भी नींबू उगाना चाहते हैं तो एक-एक स्टेप पर गौर करें.

विटामिन-सी से भरपूर, फल एक अच्छा प्रतिरक्षा बूस्टर है, जब COVID -19 महामारी अपने चरम पर है, तब इसे बहुत आवश्यक पोषण प्रदान किया जाता है. बहुत से लोग अब घर पर नींबू उगाना चाहते हैं.. लेकिन यह विशेष विचार शहरवासियों के लिए एक चुनौती बन जाता है, हमारा हम आपकी परेशानी आसान कर देंगे.

आकाश जायसवाल ने 14 साल की उम्र में बागवानी शुरू की और अपने छत के बगीचे में विभिन्न प्रकार की सब्जियां उगाईं.. आकाश वर्तमान में बागवानी प्रेमियों नाम से यूट्यूब चलाके हैं. इसके 6.5 लाख से अधिक सब्स्क्राइबर हैं.

आकाश ने कहा कि- “मेरा छत का बगीचा फल, सब्जियों और पौधों की सजावटी प्रजातियों की 250 किस्मों से भरा है,” आकाश कहते हैं, यह आश्वासन देते हुए कि छोटे स्थानों में पूरी तरह से विकसित नींबू का पेड़ होना काफी संभव है..

अपने नजदीकी नर्सरी से पौधे को सही पिक मिलना सबसे महत्वपूर्ण कारक है.. उन्होंने कहा, ” पौधे की गुणवत्ता अच्छी होनी चाहिए. यह एक आसान तरीका है कि यह अधिक फूल वाले पौधे हैं.

नींबू का पौधा लगाने से पहले आपको यह सुनिश्चित करना उचित होगा कि बर्तन 16-18 इंच चौड़ा हो, ताकि पौधे का दम न घुटे..और अच्छी तरह से फैल सकें. जड़ों को नुकसान पहुंचाने के कारण अक्सर रूट बाइंडिंग होता है और इससे पौधे को पूर्ण विकास नहीं मिल पाएगा.

एक बार पौधे और गमले तैयार हो जाने के बाद, अगला महत्वपूर्ण कदम मिट्टी के मिश्रण को तैयार करना है.. यह शायद सबसे महत्वपूर्ण चरण है क्योंकि इस मिट्टी से पौधे को अपना सारा पोषण मिलेगा.

आकाश का कहना है कि मिट्टी में 40 फीसदी जैविक खाद या उर्वरक होना चाहिए..“वर्मीकम्पोस्ट, गोबर और अन्य जैविक फ़ीड आमतौर पर सबसे अच्छा काम करते हैं.. मिश्रण का शेष भाग बागवानी मिट्टी होना चाहिए, जो आमतौर पर रेत के साथ मिलाया जाता है.

नींबू के पौधे को धूप की बहुत आवश्यकता होती है, और इसे छाया में रखना सही नहीं होगा. पौधे पर सीधी धूप पड़ना सबसे अच्छा है.. इसके अलावा, हवा वाले क्षेत्र में पौधे को रखने से बचें..आकाश ने चेतावनी देते हुए कहा कि पौधे को आवश्यकता से अधिक पानी देने से केवल नुकसान होगा.

आकाश कहते हैं कि पौधे को पानी देने का सबसे अच्छा तरीका 2-3 दिनों के अंतराल में पानी दें. पानी की मात्रा सीमित होनी चाहिए, लेकिन पर्याप्त हो. आकाश ने कहा कि ताजी हरी पत्तियों को तोड़ें या नुकसान न करें क्योंकि यह पौधे के स्वस्थ विकास को प्रभावित करेगा.

पौधे को पॉट करने के डेढ़ महीने बाद गोबर की खाद में कुछ मिलाया जाए, इससे अतिरिक्त पोषण दिया जा सकेगा. यदि आपको लगता है कि फूलों का आकार सामान्य से छोटा है, तो पौधे पर शहद छिड़ककर समस्या को हल करने का एक आसान तरीका है…

बाजार में नींबू की कुछ किस्में पाई जाती हैं, जिनमें कागजी नींबू, ग्राफ्टेड किस्म और बीज रहित नींबू शामिल हैं..आकाश कहते हैं, “बहुत से लोग बिना बीज वाले नींबू को उगाना पसंद करते हैं, कुछ चीनी नींबू को उगाना पसंद करते हैं जो आकार में बहुत छोटा होता है और सजावटी दिखता है।”

आकाश कहते हैं कि बीज रहित नींबू हाल के दिनों में काफी मांग में हैं और नींबू का पेड़ साल भर फल देता है.. “आपकी छत या बालकनी में नींबू का पेड़ होना सबसे अच्छी चीजों में से एक है जिसे आपको म’हामा’री में अपनी प्रतिरक्षा को बढ़ाने की आवश्यकता प्रदान करेगा.

About Author

Naina Shrivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *