New Delhi: आपने फिल्म नायक देखी होगी, उसमें रीड रोल निभा रहे अनिल कपूर को एक दिन का मुख्यमंत्री बना दिया जाता है. कुछ ऐसा ही दिल्ली में भी देखने को मिला. जहां दिल्ली की चैतन्या भारत में ब्रिटेन की उच्चायुक्त बनने का मौका मिला. चैतन्या महिला सशक्तिकरण का एक उदाहरण बनकर सामने आई हैं. चैतन्या वैंकेटेश्वर वो खास लड़की हैं जो ऐसा अनुभव करेंगी.

ब्रिटेन की उच्चायुक्त बनने के बाद चैतन्या ने कहा कि- मैं जब छोटी थी, तब नई दिल्ली स्थित ब्रिटिश काउंसिल के पुस्तकालय जाया करती थी, तभी से मेरे अंदर सीखने की इच्छा पैदा हुई.. एक दिन के लिए ब्रिटेन की उच्चायुक्त बनना एक सुनहरा अवसर है.

दरअसल, ब्रिटेन उच्चायुक्त हर साल एक उच्चायुक्त प्रतियोगिता रखता है. इस प्रतियोगिता की शुरुआत साल 2017 से हुई है. इस प्रतियोगिता में 18 से 23 साल की युवतियां हिस्सा ले सकतीं हैं… इसी प्रतियोगिता में दिल्ली की चैतन्या ने बाजी मारी और बन गई एक दिन की ब्रिटेन की उच्चायुक्त.. ब्रिटेन के उच्चायोग ने एक बयान में बताया कि 11 अक्तूबर को अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर ब्रिटेन के मिशन द्वारा आयोजित वार्षिक प्रतियोगिता के तहत वेंकटेश्वरन चौथी युवती हैं, जो ब्रिटेन की उच्चायुक्त बनीं हैं.

ऐसे हुआ चयन
प्रतियोगिता के तहत इस साल प्रतिभागियों से सोशल मीडिया पर एक मिनट का वीडियो डालने को कहा गया था, जिसमें उन्हें यह बताना था कि कोविड-19 संकट में लैंगिक समानता के लिए क्या वैश्विक चुनौतियां और अवसर हैं. इस वीडियो में चैतन्या ने बड़े आसानी से वीडियो डालकर बाजी मार ले गईं. और लाखों के बीच से बन गई ब्रिटेन की उच्चायुक्त…

About Author

Naina Shrivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *