New Delhi: टीआरपी घोटाला मामले (TRP ISSUE) में रिपब्लिक टीवी (Republic TV) के खिला’फ दर्ज एफआईआर को रद्द करने की याचिका पर सुनवाई करने वाली बॉम्बे हाईकोर्ट ने कहा है कि मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी (arnab goshwami) इस मामले में आरोपी नहीं हैं.

कोर्ट ने आगे कहा कि अगर मुंबई पुलिस को मामले में उनसे पूछताछ करने की आवश्यकता महसूस होती है, तो पहले समन जारी करना होगा. बॉम्बे एचसी ने रिपब्लिक टीवी के प्रमुख से कहा कि यदि वह पूछताछ के लिए अर्नब को समन भेजे तो जांच अधिकारी के साथ सहयोग करें.

मुंबई पुलिस के रिपब्लिक टीवी प्रमुख को गिरफ्तार करने के इरादे के बारे में मीडिया हाउस की ओर से पेश वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे के सवालों का जवाब देते हुए अदालत ने कहा कि चूंकि अर्नब मामले में आरोपी नहीं हैं, इसलिए उनकी गिरफ्तारी का सवाल ही नहीं उठता.. इसलिए, अदालत ने कहा कि यह मीडिया हाउस प्रमुख के लिए सुरक्षा के अंतरिम आदेश को पारित करने का कोई कारण नहीं देखता है. जहां तक अंतरिम संरक्षण का सवाल है, पीठ का मानना है कि यह आवश्यक नहीं हो सकता है क्योंकि एफआईआर में Republic Tv का कोई उल्लेख नहीं है..”

टीआरपी घोटाला मामले में एफआईआर को रद्द करने के लिए रिपब्लिक टीवी के प्रमुख अरनब गोस्वामी ने बॉम्बे एचसी का रुख किया था. रिपब्लिक टीवी द्वारा दायर याचिका में निष्पक्ष और पारदर्शी जांच सुनिश्चित करने के लिए मामले को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को स्थानांतरित करने के लिए एक निर्देश की मांग की गई थी।

About Author

Naina Shrivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *