New Delhi: भारत रहस्यों से भरा हुआ है. यहां ऐसी कई मंदिर हैं, जो अपने आप में एक रहस्य है. जिसके बारे में जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे. आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताएंगे, जो दिन में तीन बार रंग बदलता है.

ये दुर्लभ अचलेश्वर महादेव मंदिर राजस्थान के धौलपुर में स्थित है. यह मंदिर दुर्गम जंगलों में मौजूद है. लोगों का कहना है कि महादेव के इस मंदिर में शिवलिंग दिन में तीन बार रंग बदलता है. दोपहर में केसरिया और जैसे-जैसे शाम होती है इसका रंग सांवला हो जाता है.. इस शिवलिंग की अनोखी बात यह है कि इस शिवलिंग का नीचे कोई छोर नहीं है.

राजस्थान के एक मात्र हिल स्टेशन माउण्ट आबू को “अर्धकाशी” के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि यहाँ पर भगवान शिव के कई प्राचीन मंदिर हैं..’स्कंद पुराण’ के अनुसार “वाराणसी शिव की नगरी है तो माउण्ट आबू भगवान शंकर की उपनगरी.

ये एक मात्र ऐसा मंदिर है जहां पुजारी का कहना है कि यहां पर शिवलिंग के साथ-साथ उनके अंगूठे का भी पूजन किया जाता है.. मंदिर हजारों वर्ष प्राचीन है..मंदिर के एक पुजारी ने बताया कि कुछ लोगों ने धन के लालच में शिवलिंग के नीचे खुदाई की थी.. लगभग 20 फीट नीचे तक खुदाई करने के बाद भी उन्हें यहां से कुछ हासिल नहीं हुआ..इस कारण उन्होंने शिवलिंग को नष्ट करने का भी प्रयास किया, लेकिन सफल नहीं हो सके.. इस घटना के बाद से अचलेश्वर महादेव की मान्यता और ज्यादा बढ़ गई. इस मंदिर की मान्यता है कि जो भी यहां पर आकर सच्चे मन से शिवलिंग की पूजा-अर्चना कर मनोकामना मांगता है.

About Author

Naina Shrivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *