New Delhi: Sakat Chauth 2021: सकट चौथ को तिलकुट चौथ, संकटा चौथ, माघ चतुर्थी, संकष्टि चतुर्थी नाम से भी जाना जाता है. इस व्रत को रखने से सभी संकट दूर हो जाते हैं. इस बार सकट चौथ 31 जनवरी को मनाई जाएगी. सकट चौथ (Sakat Chauth) भगवान गणेश को समर्पित होता है.

कहीं-कहीं इस दिन व्रत रहने के बाद सायंकाल चंद्रमा को दूध का अर्ध्य देकर पूजा की जाती है.. गौरी-गणेश की स्थापना कर उनका पूजन तथा वर्षभर उन्हें घर में रखा जाता है.. तिल, ईख, गंजी, भांटा, अमरूद, गुड़, घी से चंद्रमा गणेश का भोग लगाया जाता है.. यह नैवेद्य रात भर डलिया से ढककर रख दिया जाता है, जिसे ‘पहार’ कहते हैं.. पुत्रवती माताएं पुत्र तथा पति की सुख-समृद्धि के लिए यह व्रत करती हैं.. उस ढके हुए ‘पहाड़’ को पुत्र ही खोलता है तथा उसे भाई-बंधुओं में बांटा जाता है..

सकट चौथ का व्रत संतान के लिए रखा जाता है. इस दिन भगवान गणेशजी के साथ-साथ भगवान शिव, माता पार्वती, कार्तिकेय, नंदी एवं चंद्रदेव की पूजा का विधान है. सकट चौथ के दिन आपको भगवान गणेश के 12 नामों का जरूर स्मरण कर लेना चाहिए.

sakat chauth subh muhurt: सकट चौथ शुभ मुहूर्त

सकट चौथ रविवार, जनवरी 31, 2021 को
सकट चौथ के दिन चन्द्रोदय समय – 20:40
चतुर्थी तिथि प्रारम्भ – जनवरी 31, 2021 को 20:24 बजे
चतुर्थी तिथि समाप्त – फरवरी 01, 2021 को 18:24 बजे

भगवान गणेश के 12 नामों का करें स्मरण

  1. सुमुख
  2. एकदंत
  3. कपिल
  4. गजकर्णक
  5. लंबोदर
  6. विकट
  7. विघ्न-नाश
  8. विनायक
  9. धूम्रकेतु
  10. गणाध्यक्ष
  11. भालचंद्र
  12. गजानन
About Author

Naina Shrivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *