New Delhi: बॉम्बे हाई कोर्ट ने गुरुवार को बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म “एमएस धोनी: द अनटोल्ड स्टोरी” में काम करने की तारीफ की और कहा कि कोई भी सुशांत के चेहरे को देख कर ये जान सकता है कि वह एक अच्छा इंसान था। राजपूत की बहने प्रियंका सिंह और मीतू सिंह द्वारा दायर याचिका पर अपना फैसला सुनाते हुए जस्टिस एस के शिंदे और एम एस कर्णिक की पीठ ने यह टिप्पणी की – अपने भाई के लिए एक फर्जीवाड़ा और एक मेडिकल पर्चे के निर्माण के लिए की गई FIR को रद्द करने की मांग की है। न्यायमूर्ति शिंदे ने कहा, “जो भी हो … सुशांत सिंह राजपूत के चेहरे से कोई भी जान सकता है कि वह एक इनोसेंट, शांत और एक अच्छे इंसान थे। हर कोई उन्हे पंसद करता है, खास कर एम एस धोनी के लिए”।

सुशांत सिंह राजपूत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती की शिकायत के आधार पर प्रियंका सिंह, मीतू सिंह और दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल के डॉक्टर तरुण कुमार के खिलाफ 7 सितंबर को उपनगरीय बांद्रा पुलिस ने FIR दर्ज की थी। शिकायत के अनुसार, बहनों और डॉक्टर ने अपने भाई के लिए डिप्रेशन डिसोडर के लिए एक जाली और मनगढ़ंत नुस्खा तैयार किया है। 34 साल के सुशांत सिंह राजपूत 14 जून, 2020 को अपने उपनगरीय घर में मृत पाए गए थे। उनके पिता के के सिंह ने बाद में रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ आ’त्मह’त्या और धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था।

इस मामले की जांच CBI द्वारा की जा रही है। बांद्रा पुलिस ने राजपूत की बहनों के खिलाफ FRI दर्ज करने के बाद केस के कागजात CBI को भेज दिए। सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के अनुसार, जिसने कहा था कि राजपूत की मृ’त्यु से संबंधित सभी मामलों की जांच CBI द्वारा की जाएगी। गुरुवार को, बहनों की ओर से पेश वरिष्ठ वकील विकास सिंह ने दलील दी कि टेलीमेडिसिन प्रैक्टिस दिशानिर्देशों ने एक डॉक्टर को ऑनलाइन परामर्श के बाद दवाओं को निर्धारित करने की अनुमति दी। उन्होंने कहा कि COVID-19 महामारी के कारण, राजपूत शारीरिक परामर्श के लिए नहीं जा सके।

About Author

Naina Shrivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *